Question :

उकार बहुला बोली मानी जाती है-


A) अवधी
B) भोजपुरी
C) बघेली
D) छत्तीसगढी

Answer : D

Description :


उकार बहुला छत्तीसगढ़ी बोली मानी जाती है। अवधी की प्रथम रचना मुल्ला दाऊद 'चांदायन' मानी जाती है। सूफी कवियों में मलिक मोहम्मद जायसी तथा राम भक्त कवियों में गोस्वामी तुलसीदास, बाबा रामचरणदास, रघुनाथ आदि ने अवधी में अपनी रचनाएँ लिखी। बैजू, शम्भू आदि कवियों ने बघेली बोली में साहित्य का सृजन किया। कवि ठाकुर का विदेशिया नृत्य नाटक भोजपुरी बहुत लोकप्रिय है। 'कवि ठाकुर' को भोजपुरी बोली का सेक्सपियर भी माना जाता है।


Related Questions - 1


निम्नलिखित में से कौन-सी बोली उत्तराखण्ड की नहीं है?


A) गढ़वाली
B) कुमाऊँनी
C) भोजपुरी
D) जौनसारी

View Answer

Related Questions - 2


अमीर खुसरो ने हिन्दी के लिए क्या प्रयुक्त किया?


A) हिन्दुस्तानी
B) हिन्दवी
C) उर्दू
D) भाषा

View Answer

Related Questions - 3


मातृभाषा कहलाती है-


A) वह भाषा जिसे बालक अपने पड़ोस से अपनाता व सीखता है।
B) वह भाषा जिसे बालक अपने परिवार से अपनाता व सीखता है।
C) वह भाषा जिसे बालक अपने कम्प्यूटर से अपनाता व सीखता है।
D) वह भाषा जिसे बालक अपने स्कूल से अपनाता व सीखता है।

View Answer

Related Questions - 4


निम्नलिखित में से प्राचीन भारतीय आर्यभाषा कौन-सी है?


A) अपभ्रंश
B) प्राकृत
C) वैदिक संस्कृत
D) पालि

View Answer

Related Questions - 5


‘अउचट’ को खड़ी बोली में क्या कहते हैं?


A) आवश्यक
B) आवश्यकता से कम
C) आवश्यकता से बहुत कम
D) आवश्यकता से ज्यादा

View Answer