Question :

भारत में भाषाओं का साहित्यिक विकास क्रम माना जाता है


A) पालि, संस्कृत, प्राकृत, अपभ्रंश
B) संस्कृत, प्राकृत, पालि, अपभ्रंश
C) संस्कृत, अपभ्रंश, पालि, प्राकृत
D) संस्कृत, पालि, प्राकृत, अपभ्रंश

Answer : D

Description :


हिन्दी भाषा के उद्भव एवं विकास का सही क्रम-संस्कृत → पाली → प्राकृत → अपभ्रंश → शौरसेनी → पश्चिमी हिन्दी तथा खड़ी बोली है।


Related Questions - 1


‘अउचट’ को खड़ी बोली में क्या कहते हैं?


A) आवश्यक
B) आवश्यकता से कम
C) आवश्यकता से बहुत कम
D) आवश्यकता से ज्यादा

View Answer

Related Questions - 2


पालि को __________ भाषा भी कहा जाता है।


A) लोक भाषा
B) देव भाषा
C) देश भाषा
D) जन भाषा

View Answer

Related Questions - 3


सितम्बर मास में दसवां विश्व हिन्दी सम्मेलन भारत के किस शहर में आयोजित किया गया था?


A) नागपुर
B) भोपाल
C) नई दिल्ली
D) जयपुर

View Answer

Related Questions - 4


हिन्दी किस लिपि में लिखी जाती है?


A) ब्राह्मी
B) देवनागरी
C) खरोष्ठी
D) गुरुमुखी

View Answer

Related Questions - 5


‘बिहारी हिंदी’ की बोलियाँ हैं-


A) मारवाड़ी, मैथिली, भोजपुरी
B) मगही, मैथिली, भोजपुरी
C) मगही, मेवाती, भोजपुरी
D) बाँगरु, मैथिली, भोजपुरी

View Answer