Question :

किस विद्वान ने देवनागरी लिपि के स्थान पर रोमन लिपि स्वीकार करने का सुझाव दिया था?


A) सुनीति कुमार चटर्जी
B) महात्मा गाँधी
C) काका कालेलकर
D) विनोबा भावे

Answer : A

Description :


डॉ, सुनीति कुमार चटर्जी ने यह सुझाव दिया था कि ‘देवनागरी लिपि’ के स्थान पर ‘रोमन लिपि’ को प्रचलित किया जाय।


Related Questions - 1


‘बिहारी सतसई’ किस भाषा का काव्य ग्रन्थ है?


A) ब्रजभाषा
B) खड़ी बोली
C) अवधी
D) भोजपुरी

View Answer

Related Questions - 2


विश्व में हिन्दी भाषा को ____________ स्थान प्राप्त है।


A) प्रथम
B) द्वितीय
C) तृतीय
D) चतुर्थ

View Answer

Related Questions - 3


निम्नलिखित भाषा रुपों और उनके प्रयोक्तओं को सुमेलित कीजिये-

 

 सूची-I            सूची-II

(a) दक्खिनी     1. दामोदर पंडित

(b) कोसली      2. कुतुबशाह

(c) ब्रजबुलि      3. सरहपाद

(d) संधाभाषा    4. शंकर देव अवतरं

                    5. कुतुबन

 

कूट : (a) (b) (c) (d)


A) 1 2 3 4
B) 2 1 3 4
C) 2 3 4 5
D) 5 4 2 1

View Answer

Related Questions - 4


प्रमुख भाषायी कौशल के अन्तर्गत इनमें से कौन एक नहीं आता है?


A) सुनना
B) बोलना
C) हँसना
D) लिखना

View Answer

Related Questions - 5


देवनागरी लिपि सा सर्वप्रथम प्रयोग कहाँ हुआ था?


A) पाणिनि कृत अष्टाध्यायी में
B) अपभ्रंश साहित्य में
C) अमीर खुसरो की पुस्तकों में
D) जयभट्ट के शिलालेख में

View Answer