Question :

कुम्हार अपना ही घड़ा सराहता है का अर्थ है -


A) अपनी ही प्रशंसा करना
B) अपनी बनाई हुई वस्तु सबको अच्छी लगती है
C) किसी को बोलने नहीं देना
D) दूसरों की वस्तु को तुच्छ समझना

Answer : B

Description :



Related Questions - 1


निम्नलिखित में से कौन सा एक शब्द तद्भव नहीं है ?


A) तस्कार
B) पत्ता
C) हाथ
D) अंग्रेज

View Answer

Related Questions - 2


निर्देश :- नीचे दिए गए प्रत्येक प्रश्न में वाक्य के पहले और अंतिम भागों को क्रमश: 1 और 6 की संख्या दी गयी है | इनके बीच में आने वाले अंशो को चार भागों में बाँटकर य, र, ल, व, की संख्या दी गयी है | ये चारों भाग उचित क्रम में नहीं हैं इन्हें ध्यान से पढ़कर दिए गए विकल्पों में से उचित क्रम चुनिए जिससे वाक्य का निर्माण हो |

 

(1) गृहिणी गृहस्थ जीवनरुपी नौका की वह पतवार है

(य) इस नौका को

(र) बचाती हुई

(ल) थपेड़ों और भंवरों से

(व) जो अपनी बुद्धिबल, चरित्रबल और त्यागमय जीवन से

(6) किनारे तक पहुँचाती है।

 


A) य र ल व
B) र ल य व
C) ल र व य
D) व य ल र

View Answer

Related Questions - 3


हम जो कुछ देख रहे हैं, सुन्दर है सत्य नहीं है।

यह दृश्य जगत भासित है, बिन कर्म शिवत्व नहीं है।।

 

प्रस्तुत पंक्तियों में कौन-सा छंद है ?


A) 14-14 मात्राओं की यति से 28 मात्राओं वाला मात्रिक छंद
B) 10-10 वर्णो की यति से 20 वर्णो वर्णिक छंद
C) 13-13 मात्राओं की यति से 26 मात्राओं वाला मात्रिक छंद
D) 15-15 मात्राओं की यति से 30 मात्राओं वाला मात्रिक छंद

View Answer

Related Questions - 4


‘मिठास’ शब्द में किस प्रत्यय का प्रयोग है ?


A) मीठा
B) ठास
C) आस
D) प्यास

View Answer

Related Questions - 5


इस समास में पहला पद संख्यावाचक होता है -


A) अव्ययीभाव
B) द्वीगु
C) द्वन्द्
D) कर्मधारय

View Answer