Question :

पश्चिम चम्पारण जिला के शिवालिक पहाड़ी में इनमें किस चट्टान की प्रधानता है?


A) आग्नेय
B) परतदार
C) रुपान्तरित
D) पाताली

Answer : B

Description :


शिवालिक पर्वतश्रेणी हिमालय पर्वत की शिवालिक श्रेणी का निचला भाग है, जो बिहार के उत्तरी-पश्चिमी भाग में पश्चिमी चम्पारण जिला के उत्तरी भाग में स्थित है। शिवालिक श्रेणी का दक्षिणी भाग ‘रामनगर दून’ के नाम से जाना जाता है। हरदा घाटी रामनगर दून के उत्तर-पूर्व की ओर से शुरु होती है। इसे दून घाटी भी कहा जाता है। सोमेश्वर श्रेणी बिहार की सबसे उत्तरी श्रेणी है। शिवालिक श्रेणी टरशियरी युग की परतदार चट्टानों से निर्मित है, जिसमें बालू-पत्थर की प्रधानता है। इसके धरातल का निर्माण बालू-मिट्टी तथा बंजरी से हुआ है। ये चट्टाने अपेक्षाकृत मुलायम हैं और आच्छादन की क्रिया से अधिक प्रभावित हुई हैं। इसके फलस्वरुप यह क्षेत्र काफी ऊबड़-खाबड़ हो गया है और सारा क्षेत्र घाटियों और कटकों से परिणत हो गया है।


Related Questions - 1


किसी राज्य में विधान परिषद् की संरचना अथवा विघटन किया जा सकता है-


A) उस राज्य की विधानसभा द्वारा
B) संसद द्वारा
C) संसद द्वारा, राज्यसभा की अनुशंसा पर
D) राष्ट्रपति द्वारा, राज्यसभा की अनुशंसा पर

View Answer

Related Questions - 2


बिहार के किस जिले की सीमा नेपाल से लगने वाले जिलों में सबसे कम है?


A) सुपौल
B) मधुबनी
C) सीतामढ़ी
D) अररिया

View Answer

Related Questions - 3


बिहार में अनुमण्डलों की कुल संख्या कितनी है?


A) 100
B) 101
C) 103
D) 9

View Answer

Related Questions - 4


क्षेत्रफल की दृष्टिकोण से बिहार में नलकूप द्वारा सर्वाधिक सिंचाई होती है-


A) पूर्वी चंपारण
B) नालंदा
C) पूर्णियाँ
D) भोजपुर

View Answer

Related Questions - 5


ओदंतपुरी विहार का संस्थापक कौन था?


A) धर्मपाल
B) देवपाल
C) महिपाल
D) नारायणपाल

View Answer