UPSSSC VDO Sample Paper in Hindi 2018
Time Loading.....

Question - 1


निर्देश : नीचे दिए गए गद्यांश को पढ़कर उसपर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।
सच्चे वीर अपने प्रेम के जोर से लोगों को सदा के लिए बांध देते हैं। वीरता की अभिव्यक्ति कई प्रकार से होती है, कबहि लड़ने-मरने से, खून बहाने से, तोप-तलवार के सामने बलिदान करने से होती है, तो कभी जीवन के गूढ़ तत्व और सत्य की तलाश से बुद्धा जैसे राजा विरक्त होकर वीर हो जाते हैं। वीरता एक प्रकार की अन्तः प्रेरणा है, जब कभी उसका विकास हुआ तभी एक रौनक, एक रंग, एक बहार संसार छा गई। वीरता देवदार निराली और नै होती है। वीरों को बनाने के कारखाने नहीं होते। वे तो देवदार के वृक्ष की भाँति जीवन रुपी वन में स्वयं पैदा होते हैं और बिना किसी के पानी दिए, बिना किसी के दूछ पिलाये बढ़ते हैं। “जीवन के केंद्र में निवास करो और सत्य की चट्टान पर दृंढ़ता से खड़े हो जाओ। बहार की सतह छोड़कर जीवन के अन्दर की तहों में पहुँचे तब नए रंग खिलेंगे।” यही वीरता का संदेश है।
Q. इस गद्यांश के लिए उपयुक्त शीर्षक होगा ?



Total Question (150)