Question :

जिह्रा की नोक जब ऊपर के दांतों की पंक्ति के सामने वाले दाँत के ऊपरी हिस्से के सम्पर्क में आकर वायु को अवरुद्ध करती है ऐसे उच्चारण स्थान को क्या कहा जाता है?


A) दंत्य
B) मूर्धन्य
C) तालव्य
D) वत्सर्य

Answer : D

Description :


जिह्रा की नोक जब ऊपर के दाँतों की पंक्ति के सामने वाले दाँत के ऊपरी हिस्से के सम्पर्क में आकर वायु के प्रवाह को अवरुद्ध करती है, तो ऐसे उच्चारण स्थान को वत्सर्य कहा जाता है, जैसे – र, ल, स।

 

अन्य विकल्प सम्बन्धित हैं-

दंत्य – दाँत और जीभ के स्पर्श से बोले जाने वाले वर्ण – त वर्ग, ल, स।

मूर्धन्य – मूर्द्धा और जीभ के स्पर्श से बोले जाने वाले वर्ण – ऋ, ट वर्ग, र, ष।

तालव्य – तालु और जीभ के स्पर्श से बोले जाने वाले वर्ण – इ, ई, च वर्ग य, श।


Related Questions - 1


सुमेलित कीजिये-

 

 (a) स्वर ध्वनियाँ 1. क, ख, ग, घ, ड·
 (b) तालव्य ध्वनियाँ 2. ख, थ, फ, भ
 (c) अल्पप्राण ध्वनियाँ 3. क, त, प, ट
 (d) घोष ध्वनियाँ  4. अं, अः, ऐ, ओ
  5. च, छ, ज, झ

       

कूट : (a) (b) (c) (d)


A) 2 3 4 5
B) 5 2 1 3
C) 2 3 4 1
D) 4 5 3 2

View Answer

Related Questions - 2


‘ऐ’ के उच्चारण में __________ और __________ की सहायता ली जाती है। रिक्त स्थान हेतु सही विकल्प चुनें।


A) छंद, तालु
B) इचयश, तालु
C) कंठ, तालु
D) दंत, ओष्ठ

View Answer

Related Questions - 3


‘ट’ वर्ग का उच्चारण किया जाता है-


A) मूर्धन्य
B) वत्सर्य
C) तालव्य
D) कंठ्य

View Answer

Related Questions - 4


स्पर्श व्यंजन, कण्ठ्य ध्वनि, अघोष और महाप्राण ध्वनि है-


A)
B)
C)
D)

View Answer

Related Questions - 5


निम्नलिखित विकल्पों में से स्वर बताइए।


A)
B)
C)
D)

View Answer